Tuesday, August 15, 2017

*Statement issued by Dr. Manmohan Vaidya on 15th Agust 2017* Poojaneeya SarSanghachalak Dr.Mohanji Bhagwat was invited by the management of Karnakayamman Higher Secondary school, Palakkad, Kerala, to participate in the golden jubilee celebrations of the school and Independence Day celebrations. At 11 pm of 14th August 2017, the headmaster of the school received a notice from the District Collector stating that only the institutional heads or an elected representative can unfurl the national flag in the school. It is however, learnt that no other school had been given similar information.  After due consultations, the school authorities decided that they will proceed as planned and that Sarsanghchalakji must exercise his constitutional rights. Dr.Mohanji Bhagwat hoisted the flag along with other institutional heads of the school.  We condemn such brazen attempts by the CPI-M led government of Kerala to deny the basic citizen rights of celebrating Independence Day and their continuous attempts to poison the state of Kerala with divisive politics.  *Dr. Manmohan Vaidya* *Akhil Bharatiya Prachar Pramukh* *Rashtriya Swayamsevak Sangh*

Wednesday, August 9, 2017

https://youtu.be/zp4MXCx-eb0 https://youtu.be/uAYYfPkioN8 Kerela

Tuesday, August 8, 2017

Request all to join a protest march against brutal killing of RSS Swayamsevak in Kerala by the Marxist communist on 9 th Aug 4.30 pm Jantar Mantar New Delhi, pls use #Whereareyou to tweet

Tuesday, August 1, 2017

RSS-Vagish Issar: स्वदेशी भाव के बिना कोई भी साहित्य अधूरा - कृष्णगो...

RSS-Vagish Issar: स्वदेशी भाव के बिना कोई भी साहित्य अधूरा - कृष्णगो...: स्वदेशी भाव के बिना कोई भी साहित्य अधूरा - कृष्णगोपाल जी नई दिल्ली, 1 अगस्त। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह श्री कृष्णगोपाल ने आज ...
स्वदेशी भाव के बिना कोई भी साहित्य अधूरा - कृष्णगोपाल जी नई दिल्ली, 1 अगस्त। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह श्री कृष्णगोपाल ने आज साहित्य में स्वदेश भाव विषय पर चर्चा करते हुए कहा शकों और हूणों ने भी भारत पर आक्रमण किया लेकिन भारतीय साहित्यकारों के विचारों से प्रभावित होकर वे देश में ही समाहित हो गए. इसके बाद 12वीं शताब्दी में देश पर आक्रमण करने वाले आक्रमणकारियों का बौद्धिक स्तर उस तरह का नहीं था, वे असहिष्णु थे, वे सिर्फ अपनी बात को ही सब कुछ समझते थे. उन्होंने कहा कि ये दुर्लभ संयोग है कि भारत में हुए अधिकतर गुरु साहित्यकार भी थे, योद्धा भी थे, अच्छे शासक भी थे और संत भी थे. भारतीय जनमानस पर सबसे अधिक प्रभाव श्री रामचरितमानस ने डाला. जिसका प्रभाव लोगों में साफ देखा जा सकता है. इसलिए कोई भी साहित्य स्वदेशी भाव के बिना अधूरा है. वह इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में राष्ट्रीय पुस्तक न्यास द्वारा आयोजित दो दिवसीय संगोष्ठी के उद्धघाट्न सत्र में बोल रहे थे. उन्होंने क्षेत्रीय साहित्यकारों की प्रशंसा करते हुए कहा कि देश को एक करने में क्षेत्रीय साहित्यकारों ने बेहद ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. समय-समय पर अपने साहित्य में प्रांत कि बजाय देश को प्राथमिकता देते रहे हैं. ये साहित्यकारों की ही देन है जिसने देश को 900 सौ वर्षों तक बचाकर रखा. आनंदमठ का जिक्र करते हुए श्री कृष्णगोपाल ने कहा कि लोग आजादी के समय वन्दे मातरम गीत गाते-गाते फ़ांसी पर झूलने को तैयार रहते थे और क्रांतिकारियों की टोली में शामिल हो जाते थे. कार्यक्रम में बतौर वक्ता कृष्णगोपाल जी ने कहा लोगों की अच्छी इच्छाओं से राष्ट्र उत्पन्न होता है. हम सभी का जन्म देश के विभिन्न राज्यों में कहीं न कहीं हुआ है लेकिन बोलते सभी भारत माता की ही जय हैं. अंग्रेज कहते हैं कि हमने भारत को एक किया है इससे पहले भारत विभिन्न रियासतों में विभक्त था, ऐसा नहीं है हजारों साल पहले महाभारत में संजय ने, कालिदास ने अपने महाकाव्य मेघदूत में इसके अलावा विष्णु पुराण और अन्य पुराणों में भी किसी न किसी रूप में भारत का नाम लिया गया. कोई भी साहित्य जब तक अधूरा रहेगा जब तक उसमें भारत का नाम नहीं लिया गया हो.

Friday, July 21, 2017

NAGPUR TODAY RSS ‘Samaj Prabhodan’ program only to boost family values, “not against any religion” Manmohan Vaidya Nagpur: Manmohan Vaidya, the Head of the RSS Communications wing has scotched the criticism being leveled against him and RSS of spreading their own ‘code of conduct’ through their ‘Samaj Prabhodan’ programs which they are endeavoring to conduct at family level. “It is not anything new, nor is there a ‘hidden agenda’ as some are alleging. We have been undertaking this program for the last 10 years, we have only sought to increase our reach by intensifying the project” explains Vaidya. Nagpur has been divided into 12 divisions and RSS workers will be deputed to meet each and every family of their division. The interaction the RSS workers – called Pracharaks – will have with the family will only be to inculcate and follow our own values which have been forgotten over the years. “There is nothing religious in it, it is common to all families.” ” The joint family structure is fast breaking up. Even in nuclear families, each member is occupied in his or her own issues so ‘together’ quality time has waned. This is leading to increasing tension and stress, specially among youngsters, who are missing out on valuable interaction and discussions with elders and other family members.” Explained Vaidya. Through their program RSS are appealing to families to spend at least one evening together in the week, eating dinner together. Watching TV at meal times should be avoided and people should decrease their preoccupation with three things: cricket, films and discussing politics. As Manmohan Vaidya says ” at least exclude these topics on one day of the week!”
[21/07 14:19] Vagish Issar: Thursday, July 20, 2017 Cow protection for decades in Bharat, Dr.Manmohan Vaidya at Jammu Addressing the press conference at Jammu on the on-going Akhil Bharatiya Prant Pracharak Meeting Dr. Manmohan Vaidya said that this kind of meeting is being conducted every year and State organisers, Zonal Organisers and Akhil Bharatiya Karyakarini Sadasya (Office bearers) participate and this time, this meeting has been held in Jammu. In this meet, discussions were on Sangh Shiksha Varga and the expansion of Sangh work. This year, 87 Sangh Shiksha Varg took place wherein 23223 participated. 15816 shikshartis below 40 years of age participated and 3000 shikshartis above 40 years. 3796 shikshartis in the second year camp and 899 in the third year camp participated across the country. At present, there are 51688 daily shakas in the country while 13432 weekly milans. There are 2965 Pracharaks, Vistaraks across the country. Number of persons joining RSS is increasing – as in the last three years – 31800 in 2015, 47209 in 2016 and 71872 in the last six months. Isha Foundation, Satguru Shri Jaggi Vasudev, has taken a “Rally for Rivers” campaign to relate water, in which the Sangh volunteers will cooperate across the nation in this campaign to plant trees along the river. In the area of village development, work has been started for 1100 villages and 318 villages have received good results. Under the guidance of scientists, more than 1000 gaushala and indigenous cows are being researched on the cow product. This topic was also discussed in this meeting. In response to the question of journalists on Jammu-Kashmir issue, he said that terrorism and separatism should be tackled strictly. There should be no compromise in it. In response to the violence during cow protection, he said that cow protection has been going on for years in India. The Sangh does not support any kind of violence and those who commit violence should act under the law. For this, one should not try to defame the Sangh. In Jammu and Kashmir, the question of whether the minority is minor and should be given the status of minorities, he said that this is a matter of discussion and should be discussed. Regarding the infiltration of Rohingya-Bangla in Jammu, he said that from the very beginning of the RSS, it is a matter of security for the country and every illegeal intruder should be identified and efforts should be made of security for the country and every illegal intruder should be identified and efforts should be made to get back the matter with their respective countries. The identity of this country belongs to Hindutva and there is a tradition of wishing everyone’s happiness. In this press conference, Jammu Prant Sanghachalak K Suchet Singh was also present. [21/07 14:19] Vagish Issar: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डा. मनमोहन वैद्य की पत्रकारो से बातचीत का सार - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डा. मनमोहन वैद्य ने वीरवार को यहां पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए पिछले तीन दिनों से चल रही अखिल भारतीय प्रांत प्रचारक बैठक के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस तरह की बैठक प्रत्येक वर्ष होती है। जिसमें संघ के प्रांत प्रचारक, सह प्रांत प्रचारक, क्षेत्रीय प्रचारक व अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य भाग लेते है और इस बार यह बैठक जम्मू में हुई है। इस बैठक में जून माह में देश भर में लगे संघ शिक्षा वर्गों व संघ कार्य के विस्तार को लेकर चर्चा होती है। इस साल 87 संघ शिक्षा वर्ग लगे, जिसमे 23223 शिक्षार्थियों ने भाग लिया। 40 साल से कम आयु वाले प्रथम बर्ष शिक्षार्थियों की संख्या 15816 थी एवम 40 साल से ऊपर की आयु के प्रथम वर्ष के शिक्षार्थियों की संख्या 3000 रही। द्वितीय वर्ष के शिक्षार्थियों की संख्या 3796 तथा तृतीय वर्ष में यह संख्या 899 रही । इस समय देश में 51688 दैनिक शाखाएं चल रही हैं जबकि 13432 साप्ताहिक मिलन चल रहे हैं। देश भर में प्रचारक-विस्तारकों की संख्या 2965 है। पिछले तीन वर्षों में ज्वाइन आर.एस.एस. के माध्यम से 2015 में 31800, 2016 में 47209 और पिछले छः माह में 71872 लोगों ने संघ ज्वाइन करने के लिए आवेदन किया है। ईशा फाउन्डेशन के स्वामी सतगुरू श्री जग्गी वासुदेव जी ने जल के संबर्धन के लिए एक “Rally for Rivers” अभियान लिया है , जिसमें नदी के किनारे वृक्षारोपण करने के इस अभियान में संघ के स्वयंसेवक देश भर में उनका सहयोग करेगें। ग्राम विकास के क्षेत्र में 1100 गांव में विकास का कार्य शुरू किया गया है तथा 318 गांव में अच्छे परिणाम प्राप्त हुए हैं। वैज्ञानिकों के मार्गदर्शन में 1000 से अधिक गौशालाऔं में देसी गायों के उत्पाद पर अनुसंधान हो रहा है। इस विषय पर भी इस बैठक में चर्चा हुई। जम्मू कश्मीर के विषय पर पत्रकारो के प्रश्न के उत्तर में उन्होने कहा कि आतंकवाद व अलगाववाद को सख्ती से निपटना चाहिए इसमें किसी प्रकार का कोई समझौता नहीं होना चाहिए। गौ रक्षा के दौरान होने वाली हिंसा के जबाव में उन्होंने कहा कि गौ रक्षा का कार्य भारत में वर्षो से चल रहा है। संघ किसी प्रकार की हिंसा का समर्थन नहीं करता है और हिंसा करने वालों पर कानून के तहत कार्यवाही होनी चाहिए। इसके लिए संघ को बदनाम करने की कोशिश नहीं होनी चाहिए। जम्मू-कश्मीर में हिन्दु अल्पसंख्यक है और उन्हें अल्पसंख्यकों का दर्जा मिलना चाहिए के प्रश्न के उतर में उन्होंने कहा कि यह चर्चा का विषय है और इस पर चर्चा होनी चाहिए। जम्मू में रोहिङ्ग्यो ब बांग्लादेशियों की घुसपैठ को लेकर उन्होंने कहा कि संघ का शुरू से मानना है कि यह देश की सुरक्षा का मामला है और हर अवैध घुसपैठिए की पहचान होनी चाहिए और उनकी संबंधित देशों से बात कर वापिसी करवाने के प्रयास होने चाहिए। इस देश की पहचान हिन्दुत्व की है और यहां सभी के सुख की कामना की परंपरा रही है। इस पत्रकार वार्ता में जम्मू कश्मीर के प्रांत संघचालक ब्रिग. सुचेत सिंह भी उपस्थित रहे ।

Monday, July 10, 2017

कल रात्रि अमरनाथ यात्रा भक्तो पर कायराना हमला कर 7 भक्तो को शहीद कर दिया ।हम इस हमले की कड़ी भर्त्सना करते है एवं शोक संतप्त परिवारो को अपनी संवेदना प्रकट करते है । देश इस कायरतापूर्ण हमले से डरने वाला नहीं । सरकार से मांग करते है इन आतंकवादियो पर कड़ी से कड़ी कार्यवाई करे । वागीश ईस्सर विश्व संवाद केंद्र

Tuesday, July 4, 2017

Sunday, July 2, 2017

कल रात्रि अमरनाथ यात्रा भक्तो पर कायराना हमला कर 7 भक्तो को शहीद कर दिया ।हम इस हमले की कड़ी भर्त्सना करते है एवं शोक संतप्त परिवारो को अपनी संवेदना प्रकट करते है । देश इस कायरतापूर्ण हमले से डरने वाला नहीं । सरकार से मांग करते है इन आतंकवादियो पर कड़ी से कड़ी कार्यवाई करे । वागीश ईस्सर विश्व संवाद केंद्र

Sunday, March 19, 2017

RSS pratinidhi sabha 2017

RSS to pass resolution on situation and sufferings of Hindu Society in West Bengal - 19th March 2017 RSS Sah Sarkaryavah Shri Bhagiah Ji addressed the Press after inauguration of the National Council Meet in Coimbatore. Addressing the Press, he detailed on the increase of Sangh Shakas throughout the country. In the last 10 years, the Sangh work is continuously increasing phase by phase. Apart from expansion, consolidation of Sangh work is going on. Last year in Prathmic Shiksha Varg 1 lakh youth participated throughout the country. 17500 trainees participated in the 20 day training camps held throughout the country. 4130 trainees participated in the second year regional camps across the country. 973 trainees participated in the third year training camp at Nagpur. 57233 Shakas, 14896 weekly milands and 8226 monthly mandalis are running throughout the country. Seva Karyas run by swayamsevaks at 19121 seva bastis. On passing of a resolution in the National Council Meet, he said that the situation in Bengal on Hindus are alarming. Violence, loot, murder, muslim appeasement are high. Government machinery and police are being mute spectators on attacks against Hindus and Hindu festivals (recently at Junagadh and Kaliachak in West Bengal). Welfare of the people and national security are not of a healthy sign. To awaken the society and appeal to the government, a resolution on the situation and sufferings of Hindu society in West Benga